Tuesday, August 21

डॉ. दिनेश त्रिपाठी ‘शम्स’

गज़लें

डॉ. दिनेश त्रिपाठी ‘शम्स’📝📝

 (1)

हम नहीं डरते तिमिर के ज़ोर से, 
अन्ततः हम जा मिलेंगे भोर से।

आपकी निष्ठा अभी संदिग्ध है,
सच बताएं आप हैं किस ओर से।

हम चले आते हैं खिंचकर आप तक,
हम बंधे हैं प्रीति वाली डोर से।

लूटने को आ गए डाकू कई,
मुक्ति हमको मिल गयी जब चोर से।

मन के कोलाहल से बचने के लिए, 
हम मिले हैं दुनिया भर के शोर से।

वो हमें कब तक करेंगे अनसुना, 
आइये हम और चीखें ज़ोर से।

शम्स कुछ भी तो नहीं बोले मगर, 
कह दिया सब कुछ नयन की कोर से।

 

(2)
क्यों उपेक्षित हैं हमारी प्रार्थनाएं ,
देवता इस प्रश्न का उत्तर बताएँ |

आपको उनसे निराशा ही मिलेगी ,
मत तलाशें इस कदर संभावनाएँ |

लग गयी हैं स्वार्थ के झोकों से हिलने ,
सिर्फ खूंटी पर टंगी हैं आस्थाएँ |

कुछ हमारे मौन का भी अर्थ समझें ,
हो नहीं पाती मुखर कुछ भावनाएँ |

अब हमारे देश में है लोकशाही ,
आइये इस चुटकुले पर मुस्कुराएँ |

जब किया है प्यार का बेशर्त सौदा ,
फिर नफ़ा नुकसान क्या जोड़े-घटाएँ |

 

(3)
दूरियां इस कदर बड़ी मत कर ,
बीच अपने अना खड़ी मत कर |

पल दो पल को ज़रा ठहर भी जा ,
खुद को इस तरह से घड़ी मत कर |

ख्वाहिशों का सिरा नहीं कोई ,
 बेसबब ख्वाहिशें बड़ी मत कर |

तू जले और सबके सब खुश हों ,
इस तरह खुद को फुलझड़ी मत कर |

प्यार में शर्त तो गवारा है ,
शर्त को यार हथकड़ी मत कर |

 

(4)
सूखते ज़ख्म को हरा मत कर ,
देखकर मुझको यूँ हँसा मत कर |

बेवजह मुश्किलें खड़ी होंगी ,  
फ्रेम तस्वीर से बड़ा मत कर |

जोगियों का भला ठिकाना क्या ,
मेरे बारे में कुछ पता मत कर |

एक ही चोट ने है तोड़ दिया ,
वार दिल पर यूँ बारहा मत कर |

सिर्फ महसूस कर मुहब्बत को ,
कुछ न सुन और कुछ कहा मत कर |

कुछ तो रिश्ते का भरम रहने दे ,
क़र्ज़ दिल का अभी अदा मत कर |

(5)
बताऊँ कैसे तुम्हें क्या है अपना हाल मियाँ ,
यहाँ तो जिंदगी ही बन गयी सवाल मियाँ |

बड़ा है शोर तरक्की का हर तरफ लेकिन ,
हमें नसीब नहीं अब भी रोटी-दाल मियाँ |

हमारे दौर का अहसास मर गया शायद ,
किसी भी अश्क को मिलता नहीं रुमाल मियाँ |

भरोसा करके जिन्हें रहनुमा चुना हमनें ,
हमारे हक का वही काट रहे माल मियाँ |

समझ गयी है तुम्हारा फरेब हर मछली ,
चलो समेट लो अब तुम भी अपना जाल मियाँ |

हैं कौन लोग लुटेरे हमारी खुशियों के ,
हमारे मन में भी अब उठते हैं सवाल मियाँ |

 

डॉ. दिनेश त्रिपाठी ‘शम्स’
वरिष्ठ प्रवक्ता: जवाहर नवोदय विद्यालय
ग्राम – घुघुलपुर , पोस्ट-देवरिया ,
जनपद- बलरामपुर , उ.प्र. -२७१२०१
मोबाइल-०९५५९३०४१३१
ईमेल–yogishams@yahoo.com

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *