Tuesday, August 21

कविताएं

कविताएं

योगेन्द्र शर्मा “योगी”

योगेन्द्र शर्मा “योगी”

कविताएं
सबही से कमज़ोर लगी ला....... घरे बहरे पास पड़ोसी सबही से कमजोर लगी ला हँसी देख के हमे लजाले खुशी के अंखिया लोर लगी ला बिना गूँन कै अवगुन भरले बिन पाखी कै मोर लगी ला अपने धुन में नाचत गवात बिना सॉज के शोर लगी ला फटल खलित्ता लेहले "योगी" बिन पइसा कै चोर लगी ला। घरे बहरे पास पड़ोसी सबही से कमजोर लगी ला।।"योगी" योगेन्द्र शर्मा "योगी" भीषमपुर,चकिया, चन्दौली (उ.प्र.)
योगेन्द्र शर्मा “योगी”

योगेन्द्र शर्मा “योगी”

कविताएं
# न्याय के रखवाले भी अब तो....... न्याय के रखवाले भी अब तो राजनीति में उतर गये है खादी कीड़े जैसे लगता इनके मन को कुतर गये हैं। भींग गई आखों की पट्टी अन्तःमन तक सिहर गये हैं जो अब तक गूँगे लगते थे वे भी अब तो मुखर गये हैं। लोकतंत्र को खतरा कह कर वे भी नाहक चिहर रहे हैं जो भी अब तक बने मुखौटे काश्मीर पर बदल रहे हैं। जरा याद वह दौर करो तुम जब कर्नल को जेल हुई थी हिरन शिकारी की इज्जत से इसी देश में वेल हुई थी। क्या जमीर तेरा सोया था जब इशरत पर रोये थे चारा खाने वाले के घर बेच के इज्जत सोये थे। दहक उठी जब नगर मुंबई क्या तुमने कुछ सोचा था आशाओं पर देश के तुमनें कैसे पानी फेरा था। जो सारी सीमा लांघ गई अफजल के पैरोकारी में वही सियासत आज यहाँ क्यूँ लिपटी है मक्कारी में। अब संविधान का लेप लगा वे सारे चेहरे निखर गये हैं "योगी" जो भी कुलभूषण पर दिल से अ
योगेन्द्र शर्मा “योगी”

योगेन्द्र शर्मा “योगी”

कविताएं
हे लोकतंत्र के भाग्य विधाता....... हे लोकतंत्र के भाग्य विधाता खद्दरधारी झूठी आशा डाकू चोर प्रकट होई जाता जब सुनता है तेरी भाषा चोर उचक्कों के हो भ्राता भ्र्ष्टाचार है तेरी माता सांप छूछून्दर पर है भारी जनता से यह तेरी यारी देख तुझे लज्जा शर्माए बेशर्मी मुँहफट बतियाये चारा चोर घूमैं बहुतेरे अलकतरा पियें साँझ सबेरे कोट पहन कर खेती करते भूमि माफिया रोज निखरते रोग नहीं पर खाँसत आवै बाँधि के मफलर आँख चुरावे टूजी मण्डल कोल घोटाला पोतस करिखा मुँह पर काला बंधक लगती न्याय व्यवस्था चींख रही झूठी समरसता संविधान के रोते सपनें हर पन्नों पर कांटे पफनें बल्लभ की बगिया मुरझाई कैसी अब यह बेला आई बिकती है खुद की परछाईं मोल लगा पर लाज न आई "योगी" तू ईमान बचा ले अपनीं दुनिया अलग सजा ले तुझसे है अंतिम अभिलाषा जन जन से कर दूर निराशा।।"योगी" योगेन्द्र शर्मा "योगी" भीषमपुर,चकि
रत्नेश चंचल

रत्नेश चंचल

कविताएं
( दीपावली विशेष )💥💥💥 अंतर्मन में दीप जले चहुं ओर हो उजीयारा राग द्वेष और क्लेश रुपी सब मीट जाए अंधीयारा । रिद्धी सिद्धी समृद्धि हो यश और आयु में वृद्धि हो जीती बाजी हाथ लगे जो अबतक हमने हारा अंतर्मन में दीप जले चहुं ओर हो उजीयारा । सर पे गणपति का हाथ रहे धन लक्ष्मी का साथ रहे । किसी बेबस व लाचार का हम भी बनें सहारा अंतर्मन में दीप जले चहुं ओर हो उजीयारा । जीवन में ऐसा रंग भरें मन में सदा उमंग भरें रहे समर्पित मातृभूमि को तन,मन, धन सब सारा अंतर्मन में दीप जले चहुं ओर हो उजीयारा ।। प्रकाश पर्व दीपावली की अनंत शुभकामनाएं । रत्नेश चंचल वाराणसी संपर्क-9335505793
योगेन्द्र शर्मा “योगी”

योगेन्द्र शर्मा “योगी”

कविताएं
सरहद पर जो वीर खड़े.......!🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻 जलें हजारों दीप मगर एक दिया उजाली उनकी हो सरहद पर जो वीर खड़े इस बार दीवाली उनकी हो। जगमग दीपक के लड़ियों की हर लौ मतवाली उनकी हो भरी पिटारी रश्मि पुंज की इस बार न खाली उनकी हो। मातृभूमि के खुशियों में या खुदा नज़ाकत उनकी हो पूज्यनीय एकदंत मगर इस बार इबादत उनकी हो। हर नगमे हर गीतों में हर तरफ महारत उनकी हो अम्बर तक रौशन यारों इस बार जियारत उनकी हो। साँसों के हर पन्ने पर अब कथा कहानी उनकी हो रंगों के रंगोली सी इस बार जवानी उनकी हो। वतन के माथे पर चंदा सा अमिट निशानी उनकी हो "योगी" बसुधा पर किरणे इस बार दीवानी उनकी हो। सरहद पर जो वीर खड़े इस बार दीवाली उनकी हो।।"योग
जियाऊल हक़

जियाऊल हक़

कविताएं
नेता बन जाई.................. पर पटिदार, हीत नाता कारऽ तावे हमे तंग। बन जाई काहो नेता, हमार करऽतावे मन। ' दुई चार घोटाला हमू कर के छिपाएम। हिन्दू-मुस्लिम कई के हम अगीया लगाएम। पाँच साल मे हमऽ हूँ जोगाई लेहेम धन। बन जाई काहो नेता, हमार करऽतावे मन। ' गैस एजेंसी, पेट्रोल पंप के होई उद्घाटन। दस-बीस बिघा किनेम मिलऽते सिंघासन। जिला जवार हमशे नाही करी अन बन। बन जाई काहो नेता हमार करऽतावे मन। ' जियाउल हक जैतपुर सारण बिहार
अजय एहसास

अजय एहसास

कविताएं
नोटबंदी के मार पड़ी है........ नोटबंदी कै मार पड़ी है आठ नबम्बर सोला मा मेहरि भई बेहोश धरे है नोट हज़ारा झोला मा । बन्द कर दिहा नोट ए भाई कहला काला धन पकड़ाई मंद भइल मंगरू कै दुकनिया बंद होइ गइल दाना पनिया । असर भइल अइसन की जइसे फसल परि गइल ओला मा नोटबंदी कै मार पड़ी है आठ नबम्बर सोला मा। सुबह सबेरे बैंक मा जावैं भीड़ मा लाइन मा लगि जावैं सुति उठि बैंक का चक्कर काटैं बड़े लोग का भितरी से बाटैं बैंको मा ता चोर भरल हैं अधिकारी के चोला मा नोटबंदी कै मार पड़ी है आठ नबम्बर सोला मा। मंत्री नेता कोउ ना लागै बारह बजे सोइ कै जागै इनकर पइसा का होइगै सब इनसे हिसाब कोइ ना मांगै इनकर पइसा भा सफेद बा अठरह बीस के तोला मा नोटबंदी कै मार पड़ी है आठ नबम्बर सोला मा। काम छोड़ लाइन मा लागी सब्जी ताइ उधारी मांगी घुरहू कहैं कि सुनो हमार मंदा सब्जी कै व्यापार पानी जस सब्जी
पार्वती विश्वकर्मा

पार्वती विश्वकर्मा

कविताएं
मेरे पापा..................... बहुत दुखी मन होता है जब याद उन्हें मैं करती हूं क्यों याद आते हो इतना फरियाद उन्हीं से करती हूं कभी-कभी जब सपनों में आप चुपके से आ जाते हो आंख खुली तो अचानक गायब क्यों इतना तड़पाते हो आप से ही तो सब कुछ था मेरा आपके सिवा कोई और न मेरा मां के बाद सब श्रेय आप को अब दूर करो मेरी पलकों की नमी को बस एक बार आ जाओ ना पापा बेटी कहकर बुलाओ ना पापा आखिर क्या कसूर है हमारा बस आप से ही था जहां हमारा आप से ही खुशियां थी हमारी आपके साथ हमें सब कुछ था गवारा अब जिद भी नहीं करुंगी आपसे बस एक बार आ जाओ ना पापा मानूंगी हर बात आपका आकर गले लगाओ ना पापा आ नहीं सकते पास मेरे अगर तो मुझे अपने पास बुलाओ ना पापा   पार्वती विश्वकर्मा रामनगर वाराणसी ✍🏻✍🏻✍🏻
प्रतीक भारत पलोड़ “दर्पण”

प्रतीक भारत पलोड़ “दर्पण”

कविताएं
जय श्री राम 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻 दानी से दानी मिले, तो करे दान की बात, दाता दीनदयाल हैं, चुने हमारे हाथ । चुने हमारे हाथ, कराते सेवा दिलाते यश, कोई धनी कोई दीन सभी, नारायण के वश । नारायण के वश रहे, तो मिले ये मंगल भाग, गुरू प्रेरित शुभ काज कर, भोर भई अब जाग । भोर भई अब जाग मुसाफ़िर, रस्ता जोवे बाट, करम-गति भगति पाती, बैकुण्ठों में ठाट । बैकुण्ठों में ठाट हितै जो, बिप्र-धेनु-सुर-सन्त, हो मानव या दानव अथवा, सबका एक ही अन्त । सब का एक ही अन्त हुआ, विभीषण हो या रावण, दोनों अमर हैं भिन्न-भिन्न, एक राक्षस दूजा ब्राह्मण । एक राक्षस दूजा ब्राह्मण, एक सम्मान दूजा गाली, महकें महकाएँ या सड़ें, हम प्रसून प्रभु माली । हम प्रसून प्रभु माली, करते एक सार सम्भाल, अपने-अपने गुण-अवगुण, अपना-अपना हाल । अपना-अपना हाल चुनें ह
डॉ. अनिल चौबे

डॉ. अनिल चौबे

कविताएं
👮🏻‍♀️एन्टी रोमियो स्क्वायड UP प्रेम के पुजारी आदि नायक मोहब्बत के प्रेमियों का दर्द आप क्यों न सुन पा रहे। कोई भी जगह तो सुरक्षित बची नही है कहाँ प्यार करें प्रभु क्यों न समझा रहे । कॉलेज के गेट वेट पार्क में करें जो सेट एन्टी रोमियो वाले दारोगा जी भगा रहे। आप जिस प्रेम हेतु पूजे गये दुनिया में हम उसी प्रेम में पड़े तो पीटे जा रहे।।  डॉ. अनिल चौबे  वाराणसी , u.p.